ताज महल का ये राज़ सबसे छुपाया गया

ताज महल, जिसे शाहजहाँ ने मुमताज़ महल के स्मारक के रूप में बनाया, एक बहुत ही महत्वपूर्ण इतिहासिक भवन है। यह भवन आगरा, उत्तर प्रदेश, भारत में स्थित है और इसका निर्माण पूरी तरह से संगमरमर से किया गया था, जिसे इटली से लाया गया था।

ताज महल का निर्माण करने के लिए कुछ कदम इस प्रकार थे:

  1. संगमरमर चयन: ताज महल के लिए संगमरमर का चयन किया गया था, जो कि मकराना संगमरमर था। यह संगमरमर बहुत ही शुद्ध और सफ था, जिसका उपयोग भवन की सुंदरता और स्थिरता को बनाए रखने के लिए किया गया।
  2. संगमरमर की कटाई: संगमरमर को ताज महल के रूप में रचने के लिए, उसे कई अलग-अलग आकर्षित आकृतियों में काटा गया था। हर एक पत्थर को ध्यान से काटा गया था, ताकि वह एक दूसरे के साथ बिलकुल मिल जाए और भवन का आकर्षण बनाए रखे।
  3. संगमरमर का रंग: संगमरमर को सफेद रंग दिया गया था, जिससे ताज महल का वह खास चमकदार और सुंदर आकर्षण बन सके।
  4. भवन की रेखाओं का डिज़ाइन: ताज महल का डिज़ाइन बहुत ही आकर्षक है, इसमें सममित्री और हारमोनी का ध्यान रखा गया है। हर एक रेखा और आकृति का अनुकूल डिज़ाइन बनाने के लिए कला और विज्ञान का सही मेल है।
  5. निर्माण का समय: ताज महल का निर्माण 1631 में शुरू हुआ था और 1653 में पूरा हुआ। इसमें कई हजार मज़दूरों, कलाकारों, और वैज्ञानिकों ने योगदान दिया था।
  6. उस्तारा का प्रयोग: ताज महल के निर्माण में उस्तारा का प्रयोग भी किया गया था, जिससे कि भवन की मार्मर दीवारों में बहुत ही कलात्मक और खूबसूरत नक्षा बनाया जा सके।

ताज महल का निर्माण बहुत ही महत्वपूर्ण है और इसमें न केवल भव्य संगमरमर का प्रयोग किया गया था, बल्कि उसके डिज़ाइन और कलात्मकता ने इसे दुनिया भर में प्रसिद्ध बनाया।

Leave a Comment